बाजार का खेल

Sachin_Tendulkar_1212025cबचपन में क्रिकेट के प्रति जो दीवानगी थी वह कम जरूर हुई है लेकिन सचिन के प्रति भावनात्मक रुझान अब भी बरकरार है। अपने  जीवन में कभी मार खाई तो सचिन-प्रेम की वजह से। बचपन का वह दिन याद है जब क्रिकेट दूरदर्शन से दूर हो रहा था और निजी चैनलों ने इसका प्रसारण शुरू कर दिया था। पढना जारी रखे